Home राष्ट्रीय कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कर होगा 9वीं से 12वीं तक कक्षाओं का...

कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कर होगा 9वीं से 12वीं तक कक्षाओं का संचालन : श्री परमार

443
0


कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कर होगा 9वीं से 12वीं तक कक्षाओं का संचालन : श्री परमार


18 दिसंबर को होगी पैरेंट्स – टीचर मीट 


भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 17, 2020, 21:25 IST

स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री इन्दर सिंह परमार ने कहा है कि कोविड-19 प्रोटोकॉल एवं शासन की गाइडलाइन का पालन करते हुए विद्यालयों में 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं का संचालन किया जाएगा। बोर्ड की आगामी परीक्षाओं एवं बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। श्री परमार के निर्देश पर लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा सभी संस्था प्राचार्यो को शिक्षण सत्र 2020 -21 में शासकीय हाई और हायर सेकेंडरी विद्यालयों में नियमित कक्षाएं संचालित करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयश्री कियावत ने बताया कि सभी विद्यालयों में 18 दिसंबर को पेरेंट्स- टीचर मीट होगी, जिसमें कक्षावार अलग-अलग समय पर अभिभावकों को आमंत्रित किया जाएगा। अभिभावकों के साथ विद्यार्थी के रिवीजन टेस्ट की कॉपी, प्राप्तांक एवं आगामी बोर्ड परीक्षा की तैयारी के संबंध में चर्चा की जाएगी, जो अभिभावक बैठक में नहीं आ सकेंगे उनके साथ ऑनलाइन चर्चा की जाएगी। प्रार्थना, असेंबली, खेल जैसी गतिविधियां प्रतिबंधित की गई है। लंच के दौरान छात्र अपनी कक्षाओं में ही रहेंगे। विद्यालयों के संचालन के दौरान भारत एवं राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी कोविड-19 गाइडलाइन का पालन किया जाएगा।

सभी विद्यालयों में 10वीं एवं 12वीं की कक्षाएं नियमित रूप से संचालित की जाएगी। कक्षा 9वीं एवं 11वीं के लिए विद्यार्थियों के नामांकन एवं उपलब्ध अध्यापन कक्ष के आधार पर प्राचार्य स्थानीय स्तर पर निर्णय ले सकेंगे। वर्तमान कोरोना परिस्थितियों को देखते हुए प्रदेश के सभी विद्यालयों में ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों प्रकार की कक्षाओं का संचालन होगा। विद्यालय में विद्यार्थियों की उपस्थिति माता-पिता, अभिभावकों की सहमति पर निर्भर होंगी। माता-पिता अभिभावकों द्वारा एक बार दी गई सहमति पूरे सत्र के लिए मान्य होगी।

स्कूल शिक्षा विभाग ने शासकीय स्कूलों के रि-ओपनिंग के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी किया गया है। इस SOP में स्पष्ट किया गया है कि प्रतिदिन विद्यालय में सभी शिक्षण संबंधी कार्य क्षेत्र, प्रयोगशालाओं, पीने के पानी और हाथ धोने के स्टेशनों, वॉशरूम, लैबोरेटरी और अन्य सामान उपयोग में आने वस्तुओं एवं क्षेत्रों को एक परसेंट सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन से साफ और सैनिटाइज किया जाएगा। यह सैनिटाइजेशन विद्यालय में कक्षाओं की शुरुआत से पहले और दिन के अंत में किया जाएगा।

विद्यालय में प्रवेश पर थर्मल स्क्रीनिंग, पल्स ऑक्सीमीटर और सैनिटाइजर की व्यवस्था होगी। थर्मल और पल्स ऑक्सीमीटर स्कैनिंग के बाद ही विद्यालय में प्रवेश दिया जाएगा। सभी विद्यार्थी शिक्षक और गैर शिक्षण कर्मचारी एक दूसरे से हर समय 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखेंगे और इन सभी के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जाएगा। विद्यालय में सुदर्श स्थानों पर कोविड-19 के संबंध में रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में बड़े बड़े अक्षरों में पठनीय सूचनाएं या स्टेंडीज रखी जाएगी। फेस मास्क, हैंड सेनीटाइजर आदि का उचित बैकअप स्टॉक रखा जाएगा।

प्रदेश के सभी विद्यालयों में ऑनलाइन एवं ऑफलाइन कक्षाओं के संचालन की सघन मॉनिटरिंग की जाएगी। राज्य कार्यालय के अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी सहित अन्य अधिकारी नियमित रूप से मॉनिटरिंग करेंगे। यह निरीक्षणकर्ता अधिकारी वीडियो कॉल के माध्यम से प्रतिदिन 5 विद्यालयों का ऑनलाइन निरीक्षण करेंगे एवं इसकी रिपोर्ट विमर्श पोर्टल पर अपलोड करेंगे। एजुकेशन पोर्टल पर प्राचार्य द्वारा एम शिक्षा मित्र हाजरी ऐप पर प्रतिदिन विद्यार्थियों एवं शिक्षकों की उपस्थिति दर्ज की जाएगी।


अनुराग उइके

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here