Home राष्ट्रीय डिजिटल साक्षरता आज की जरूरत और ऐसी मानसिकता विकसित करना आवश्यक -श्रीमती...

डिजिटल साक्षरता आज की जरूरत और ऐसी मानसिकता विकसित करना आवश्यक -श्रीमती सिंधिया

174
0


डिजिटल साक्षरता आज की जरूरत और ऐसी मानसिकता विकसित करना आवश्यक -श्रीमती सिंधिया


वर्चुअल ”एम्पलाईविलिटी कॉन्क्लेव 2020” का समापन 


भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 1, 2020, 16:50 IST

तकनीकी शिक्षा कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने मंगलवार को वर्चुअल एम्पलाईविलिटी कॉन्क्लेव-2020 का शुभारंभ करते हुए कहा कि डिजिटल साक्षरता आज की जरूरत है। कोविड ने हम सभी को डिजिटल होने के लिए मजबूर किया है। हमें तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए बच्चों में ऐसी मानसिकता को विकसित करना होगा जहाँ वे सिर्फ इंजीनियरिंग के विभिन्न विषयों पर केन्द्रित न रहकर आधुनिकतम तकनीकों की व्यवहारिक जानकारी से भी पूर्ण रूप से वाकिफ हो।

मंत्री श्रीमती सिंधिया ने कहा कि प्रौद्यागिकी जीवन के हर क्षेत्र में लागू होती है। शैक्षणिक संस्थानों में सैद्धांतिक ज्ञान से ज्यादा व्यवहारिक पढ़ाई पर जोर दिया जाना चाहिए। उद्योगों की जरूरत के हिसाब से विद्यार्थियों को तैयार करने के लिए यह जरूरी है कि फैकल्टी को भी उसकी जानकारी हो। श्रीमती सिंधिया ने कहा कि भविष्य में उद्योगों के विशेषज्ञों को विजिटिंग फैकल्टी के रूप में जोड़ा जाएगा। तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा रोजगार कौशल और उद्यमिता में सुधार लाने के लिए आइटी क्षेत्र तथा विभिन्न उद्योगों के हितधारकों के साथ परस्पर बातचीत करने के मद्देनजर इण्डस्ट्री अकादमिया मीट आयोजित किया गया था। तकनीकी शिक्षा, सीआईआई यंग इंडियन्स और नैसकाम के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित वर्चुअल कॉन्क्लेव में विभिन्न प्रतिष्ठित उद्योग विशेषज्ञों ने अपने सुझाव प्रस्तुत किए।

एम डी परसिसटेंट सिस्टम के डा.आनंद देशपाण्डे ने सुझाव दिया कि विद्यार्थियों को आत्मनिर्भरता की ओर प्रोत्साहित करना चाहिए। उद्योगों के विशेषज्ञों को महाविद्यालयों में लेक्चर्स के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए।

नैसकाम फ्यूचर स्किल की हेड सुश्री कीर्ति सेठ ने कहा कि टैलेन्ट गेप एक बड़ी समस्या है। बहुविषयक शिक्षा वर्तमान बाजार की माँग है।

कॉग्नेजेंट की सुश्री माया श्रीकुमार ने कहा कि सिर्फ स्नातक या स्नातकोत्तर के सर्टिफिकेट से काम नहीं चलेगा। विद्यार्थियों को तकनीक के माध्यम से समस्याओं को समझना और उनकी पहचान करना आना आवश्यक है। यह हुनर उन्हें भविष्य में सफलता दिलायेगा। पाठ्यक्रम में विषयों को कम कर कौशल व्यवहारिक ज्ञान में वृद्धि करें।

इनफोसिस के श्री सुधीर मिश्रा ने कहा कि विद्यार्थियों को इनफोसिस के इनफि टी क्यू प्लेटफार्म से जुडना चाहिए।

टीसीएस के श्री गौरव ने तीन ए- एवेयरनेस, एग्रेसिव तथा एजीलिटी पर केन्द्रित करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में इच्छुक क्षेत्र में क्या चल रहा है उसकी जानकारी रखे, क्या सिखने की जिज्ञासा तथा नई तकनीक को अपनाने के लिए तैयार होना चाहिए।

कॉन्क्लेव में डॉ. क्रिस सोटिरोपॉल्स सीईओ मेलबर्न, सिस्को के श्री मुरूगन वासुदेवन, इनक्यूबेशन मास्टर्स के अध्यक्ष श्री सी.के. तिवारी, सेजग्रुप के सुश्री शिवानी अग्रवाल ने भी अपने सुझाव दिए। इस अवसर पर आयुक्त तकनीकी शिक्षा श्री पी नरहरि, संचालक कौशल विकास श्री एस. धनराजू, सीआईआई यंग इंडियन्स के डा. अनुज गर्ग उपस्थित थे।


बिन्दु सुनील

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here