Home राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षण संस्थाएँ उद्योगों की जरूरत के मान से पाठ्यक्रम संचालित करें

तकनीकी शिक्षण संस्थाएँ उद्योगों की जरूरत के मान से पाठ्यक्रम संचालित करें

185
0


तकनीकी शिक्षण संस्थाएँ उद्योगों की जरूरत के मान से पाठ्यक्रम संचालित करें – मंत्री श्री सखलेचा


 


भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 27, 2020, 19:45 IST

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा है कि तकनीकी शिक्षण संस्थाएँ आधुनिक तकनीकों एवं उद्योगों की जरूरत के मान से पाठ्यक्रम संचालित करें। तकनीकी शिक्षा संस्थान विद्यार्थियों को सैद्धांतिक के साथ व्यावहारिक प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दें, जिससे युवा विशेषज्ञता हासिल कर पायें। उन्होंने कहा कि औद्योगिक संस्थानों को नई तकनीकों से जोड़ने के लिये भी मदद करें। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश एवं आत्मनिर्भर इंदौर बनाने के लिये विशेष प्रयास किये जायें। उन्होंने कहा कि समय की जरूरत के मान से तकनीकी शिक्षण संस्थान नये शोध करें, सरकार उन्हें पर्याप्त मदद उपलब्ध कराएगी।

मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि अगर आज की तकनीकों और जरूरतों के मान से शिक्षण-प्रशिक्षण दिया जाएगा तो युवाओं को रोजगार में परेशानी नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि श्री गोविंददास सेक्सरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान मध्यप्रदेश की सबसे पुरानी संस्था है, जो आज अपने नए स्वरूप में सामने आ रही है। तकनीकी शिक्षा के विस्तार में इनके द्वारा किए जा रहे प्रयास निश्चित ही सफल होंगे। श्री सखलेचा आज इंदौर में संस्थान द्वारा नई स्टार्ट-अप पॉलिसी एवं नई एजुकेशन पॉलिसी-2020 का विमोचन कर रहे थे।

संस्थान के निदेशक डॉ. राकेश सक्सेना ने इस एजुकेशन व स्टार्ट-अप पॉलिसी के मुख्य घटक और संरचना के संबंध में जानकारी दी। संस्थान के प्रोफेसर डॉ. नीरज जैन ने स्टार्ट-अप पॉलिसी के विभिन्न पक्षों और पूर्व में निर्मित स्टार्ट-अप पॉलिसी के परिवर्तन संबंधी जानकारी दी। श्री जैन ने बताया कि संस्थान ने भारत सरकार की इनोवेशन एवं स्टार्ट-अप पॉलिसी के महत्वाकांक्षी कदम के अनुरूप अपने संस्थान की क्षमताओं और सुविधाओं के परिप्रेक्ष्य में अपनी इनोवेशन एवं स्टार्ट-अप पॉलिसी का निर्माण किया है, जिसमें सैद्धांतिक रूप से एनआईएसपी का एडॉप्शन किया गया है।

पॉलिसी में छात्रों एवं फैकल्टी को इनोवेशन एवं स्टार्ट-अप के लिए सम्पूर्ण वातावरण प्रदान करने एवं प्रोत्साहित करने के लिए इक्यूवेशन तथा क्षमता विकास कार्यक्रमों का माइक्रो एक्शन प्लान प्रारूप सुझाया गया है, जो उद्देश्यों के अनुरूप परिणाम आधारित है। मंत्री श्री सखलेचा ने वर्ल्ड बैंक, टेक्यूप के सहयोग से संस्थान में नवीन निर्मित सिस्मोग्राफ आब्जरबेट्री का अनावरण किया। उन्होंने कहा कि इससे इंदौर व प्रदेश के भूकम्प संबंधी डाटा व शोध को नवीन ऊँचाई मिलेगी।


राजेश बैन

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here