Home राजधानी न्यूज़ Bhopal News: खुद के भरोसे हैं संक्रमित नहीं हो रही कांटेक्ट ट्रेसिंग...

Bhopal News: खुद के भरोसे हैं संक्रमित नहीं हो रही कांटेक्ट ट्रेसिंग ना ही सैंपलिंग

79
0

Publish Date: | Tue, 29 Sep 2020 04:13 AM (IST)

– कोरोना पॉजिटिव मरीजों के ना तो घर का हो रहा है सैनिटाइज ना ही सैंपल लेने पहुंच रही है टीम

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अगर आपकी कोरोना रिपोर्अ पॉजिटिव आती है तो आपको अपनी और अपने परिवार की जिम्मेदारी और सुरक्षा आपको ही करनी होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि जैसे-जैसे कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। प्रशासनिक लापरवाही भी बढ़ती जा रही है। नियमों के अनुसार पॉजिटिव आने वाले मरीज का घर सैनिटाइज कर इनके परिवार के सदस्यों के भी सैंपल लिए जाने चाहिए ताकि उनमें कोरोना के लक्षण विकसित होने से पहले ही पहचान हो जाए। इसके बावजूद इस नियम का पालन नहीं किया जा रहा है।

राजधानी में पॉजिटिव आने वाले मरीजों के घर को ना तो सैनिटाइज किया जा रहा है और ना ही उनके परिवार के लोगों का सैंपल लेने टीम घर पहुंच रही है। यही कारण है कि घर का एक सदस्य कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में तो भर्ती हो जा रहा है, लेकिन उस घर के अन्य सदस्य बाजार में घूम रहे हैं और कोरोना का संक्रमण फैला रहे हैं। इतना ही नहीं प्रशासन ने पॉजिटिव मरीजों का बढ़ता हुआ आंकड़ा देखकर सैंपलिंग करना भी कम कर दिया है। सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वह अब सैंपलिंग नहीं कराएंगे। जिस परिवार का सदस्य पॉजिटिव आता है उनके परिवार के लोग फीवर क्लीनिक या सैंपल कलेक्शन सेंटर में जाकर सैंपल देंगे। यही कारण है कि राजधानी में तेजी से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। इसका खुलासा तब हुआ जब नवदुनिया ने पॉजिटिव मिले मरीजों को फोन कर सैंपलिंग और सैनिटाइजेशन की जानकारी ली। करीब 10 लोगों में से सात ने बताया कि उनके घर में किसी भी सदस्य का सैंपल नहीं लिया गया है। वहीं सभी ने यह भी कहा कि नगर निगम का कोई कर्मचारी सैनिटाइजेशन के लिए घर नहीं पहुंच रहा है।

बढ़ रही है संक्रमण दर

कोरोना की संक्रमण दर लगातार बढ़ती जा रही है। एक सप्ताह पहले जहां 2100 सैंपल लिए जा रहे थे। वहीं अब 1700 सैंपल लिए जा रहे हैं। पहले जहां संक्रमण दर 12 प्रतिशत थी वहीं अब 14 और 13 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

केस-1

न्यू मार्केट क्षेत्र में रहने वाली मंजू शुक्ला की कोरोना रिपोर्ट 23 सितंबर को पॉजिटिव आई थी। इन्हें एम्स में भर्ती करवाया गया है। इन्होंने अपने परिचितों से संपर्क कर उन्हें क्वारंटाइन होने और सैंपल कराने की सलाह दी। उनके भाई मनोज शुक्ला ने बताया कि उसके बाद से घर में सैनिटाइजेशन नहीं हुआ। इतना ही नहीं परिवार वालों के सैंपल भी नहीं लिए गए। उन्होंने कॉल सेंटर में इसकी जानकारी दी तो उन्हें नजदीकी फीवर क्लीनिक या कलेक्शन सेंटर में जाकर सैंपल देने के लिए कह दिया गया।

केस-2

साकेत नगर निवासी 22 वर्षीय मनीष दांगरे की रिपोर्ट 22 सितंबर को पॉजिटिव आई थी। उन्होंने बताया कि उनके घर पर अब तक किसी के सैंपल नहीं हुए हैं, जबकि वे स्वयं होम क्वारंटाइन हैं। जिस दिन रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, उस दिन स्वास्थ्य विभाग की टीम घर आकर कुछ दवाएं दी थीं। इसके बाद ना तो घर को सैनिटाइज किया गया और ना ही किसी का सैंपल लिया गया। उन्होंने बताया कि उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए कॉल सेंटर से कॉल आता है और वे परिवार में किसी को लक्षण तो विकसित नहीं हुए इस बारे में पूछते हैं बस।

केस-3

विश्वकर्मा नगर निवासी कैलाश पाटीदार की रिपोर्ट 24 सितंबर को पॉजिटिव आई। इसके बाद भी उनके परिवार के किसी भी सदस्य के सैंपल नहीं हुए। वहीं घर भी सैनिटाइज नहीं हुआ। बाद में उन्होंने अपने बेटे से कहकर घर को सैनिटाइज करवाया। वहीं स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ होने के कारण उनके विशेष प्रयास के बाद ही घर के अन्य सदस्यों के सैंपल लिए गए।

केस-4

नेहरू नगर निवासी सुमित ने बताया कि 22 को उनकी एंटीजन टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद भी परिवार के सदस्यों के सैंपल नहीं लिए गए। 24 तारीख को उन्होंने कॉल सेंटर में कॉल कर बताया कि उनके घर में परिवार के अन्य सदस्यों को भी कोरोना के लक्षण विकसित हो गए। इस पर उन्हें फीवर क्लीनिक जाने की हिदायत दे दी गई।

पिछले सात दिनों में हुए इतने सैंपल

दिन– सैंपल की संख्या– पॉजिटिव मरीज– संक्रमण दर

21 सितंबर–2144–269–12 प्रतिशत

22 सितंबर–2411 –243–10 प्रतिशत

23 सितंबर–2015–270–13.9 प्रतिशत

24 सितंबर–2109–273–12.9 प्रतिशत

25 सितंबर–2144–275–12.8 प्रतिशत

26 सितंबर–2350– 264–11.23 प्रतिशत

27 सितंबर–1728– 259–14.98 प्रतिशत

28 सितंबर–1520– 198–13 प्रतिशत

कुल –16421–2051–12.4 प्रतिशत

हम सैंपलिंग के लिए नई व्यवस्था बना रहे है। फिर से कैंप लगाकर सैंपलिंग की जाएगी, ताकि संक्रमण का जल्दी से जल्दी पता लगाया जा सके। फीवर क्लीनिक को और अपडेट कर यहां मलेरिया और डेंगू की भी किट रखवाई जा रही है।

अविनाश लवानिया, कलेक्टर, भोपाल

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here