Home राजधानी न्यूज़ Coronavirus Gwalior News If this situation of recovery is 90 days then...

Coronavirus Gwalior News If this situation of recovery is 90 days then new year will be Corona free

98
0

Publish Date: | Sun, 04 Oct 2020 03:51 PM (IST)

Coronavirus Gwalior News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना के कहर के लिए सितंबर का महीना अब तक जाना जा रहा है, लेकिन इसी माह में लोगों के स्वस्थ होने के आंकड़े राहत का संकेत भी दे रहे हैं। सितंबर के आखिरी 15 में से 13 दिन संक्रमितों की रिकवरी दर करीब 115 फीसद रही है। विशेषज्ञों के मुताबिक राहत के इस संकेत को हम यह न मानें की कोरोना खत्म हो जाएगा। हम लापरवाह न बने, और सतर्क हो जाएंगे। यही सतर्कता हमें कोरोना से बचाएगी।

राहत देने वाले आंकड़ों को इस तरह समझें। सितंबर के 13 दिन में यदि 100 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए तो 115 मरीज स्वस्थ होकर अस्पताल से डिस्चार्ज भी हुए हैं। यह वजह रही है कि माह के मध्यम में जो एक्टिव मरीजों की संख्या 2148 पर पहुंची थी, वो एक अक्टूबर को 1682 तक रह गई।

अगर रिकवरी दर यही रही तो अगले तीन महीनों में शहर से कोरोना संक्रमण खत्म हो जाएगा। हालांकि सितंबर माह में स्वास्थ्य विभाग ने आशंका जताई थी कि 30 अक्टूबर तक शहर में पांच हजार से अधिक एक्टिव केस हो जाएंगे। इसके हिसाब से प्रशासन व्यवस्थाएं बना लें। अभी तक शहर में 10 हजार 744 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 8931 स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं।

तेजी से स्वस्थ होने का कारण

रिकवरी दर बढ़ी

सितंबर के शुरुआत में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी, लेकिन माह के मध्य तक आते-आते संक्रमितों के साथ स्वस्थ होने की दर भी बढ़ने लगी। आखिर में संक्रमित कम पाए जाने लगे पर स्वस्थ होने वालों की गति वही बनी रही।

गंभीर मरीजों को अस्पताल में इलाज

बिना लक्षण व कम लक्षण वाले मरीजों को जब घर रखा गया तो अस्पताल में गंभीर मरीजों के लिए बेड उपलब्ध हुए। इससे उन्हें अस्पताल में और बेहतर इलाज मिल सका, जिससे वह तेजी से रिकवर होने लगे।

डिस्चार्ज की समयसीमा हुई कम

कोरोना के शुरुआत में संक्रमित मरीज को 14 दिन अस्पताल में इलाज के बाद 7 दिन होम क्वारंटाइन रहने का समय तय था। इसके बाद इसमें कमी आई और 10 दिन में अस्पताल से मरीज को डिस्चार्ज किया जाने लगा। अब इसमें और सुधार हुआ कि अस्पताल में भर्ती मरीज को तीन दिन तक यदि कोई लक्षण नहीं है तो उसे डिस्चार्ज किया जा सकता है। ऐसे में कई लोग 5 से 10 दिन के बीच में ही डिस्चार्ज हुए और रिकवरी दर बढ़ गई।

अभियान चला तो घटा संक्रमण

प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने मास्क, शारीरिक दूरी के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाया। इसमें समाचार पत्रों ने भी उनका साथ दिया। नईदुनिया के ‘अभी मास्क ही वैक्सीन’ अभियान को शहरवासियों के साथ प्रदेश के मुख्यिा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी सराहा। जब लोगों ने मास्क व सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन किया तो संक्रमण दर पर भी गिरने लगी।

सितंबर के अंतिम 16 दिन संक्रमित व स्वस्थ होने की दर

दिन संक्रमित सैंपल स्वस्थ पॉजिटिव दर रिकवरी दर

15सितंबर 226 941 258 24 114

16 201 1065 276 18 137

17 267 1039 217 25 81

18 218 788 248 27 113

19 194 1020 219 19 112

20 219 888 227 24 103

21 164 630 182 26 110

22 172 1082 147 15 85

23 129 811 167 15 129

24 154 929 207 16 134

25 151 1326 157 11 103

26 112 1092 123 10 109

27 126 1090 205 11 162

28 85 1071 104 7 122

29 144 1636 152 8 105

30 128 956 147 13 114

कुल 2690 16364 3036 16.8 114.5

(नोटः पॉजिटिव व रिकवरी दर प्रतिशत में व कुल संख्या औसत में)

इनका कहना है

कोरोना का ट्रेंड बदल रहा है, शहर में संक्रमित से अधिक रिकवरी दर होना राहत की बात है। ऐसा नहीं कि कोरोना संकट अब नहीं है, लेकिन आपकी सतर्कता ही कोरोना को हराएगी। मास्क व सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन ही शहर से कोरोना को विदा करेगी।

डॉ. मनीष शर्मा, सीएमएचओ

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here