Home राजधानी न्यूज़ Love Jihad in Madhya Pradesh Will Congress support Love Jihad law or...

Love Jihad in Madhya Pradesh Will Congress support Love Jihad law or oppose Home Minister Narottam Mishra

113
0

Updated: | Fri, 27 Nov 2020 09:08 PM (IST)

Love Jihad in Madhya Pradesh:भोपाल। नवदुनिया स्टेट ब्यूरो। कांग्रेस और उसके नेता भ्रम में जी रही हैं। उसकी नीति ही स्पष्ट नहीं है। लव जिहाद को लेकर उसे साफ करना चाहिए कि वह विधानसभा में धर्म स्वातंत्र्य विधेयक का समर्थन करेगा या विरोध। इस पर पार्टी के नेता क्यों नहीं बोल रहे हैं। यह बात गृहमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस द्वारा लव जिहाद की परिभाषा पूछने पर पलटवार करते हुए कही।

गृहमंत्री ने कहा कि कांग्रेस दोमुही बात करती है। ऐसा किसी और पार्टी में नहीं मिलेगा। जो लोग तिरंगे का विरोध करते हैं, कांग्रेस उनके साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है और उसके नेता कहते हैं कि हम उनके साथ नहीं हैं। पार्टी अपनी नीति तो स्पष्ट करें। देश के अंदर भ्रम में यदि कोई जी रहा है तो वह कांग्रेस और उसके नेता हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वन नेशन, वन इलेक्शन की सोच पर उन्होंने कहा कि वन नेशन, वन राशन कार्ड, वन नेशन वन टैक्स की तरह ही वन नेशन, वन इलेक्शन भी है। पार्षद से लेकर सांसद तक एक ही मतदाता सूची से चुना जाए।

मप्र सरकार के धर्म स्वातंत्र्य विधेयक का उद्देश्य ‘लव‌‌’ को ‘जिहाद’ की तरफ ले जाने वाले शादी-विवाह को रोकना है। इस पर उंगली उठाने के बजाय अब @INCMP को‌ अपनी स्थिति ‌स्पष्ट‌ करनी चाहिए कि वह विधानसभा के अगले सत्र ‌में आने वाले नए विधेयक का समर्थन करेगी या विरोध?@BJP4India @BJP4MP pic.twitter.com/qwP3Spg1Xl

— Dr Narottam Mishra (@drnarottammisra) November 27, 2020

पंचायत से संसद तक के चुनाव एक मतदाता सूची से हों। यह उचित भी है क्योंकि पांच साल चुनाव ही चलते रहते हैं। विधानसभा के चुनाव हुए तो लोकसभा चुनाव आए गए। नगरीय निकाय हुए तो पंचायत चुनाव आ गए। मंडी चुनाव के बाद सहकारी संस्था और फिर जल उपभोक्ता समिति के चुनाव होने लगे। एक के बाद चुनाव होते रहते हैं। आचार संहिता के चलते विकास प्रभावित होता है। मध्यप्रदेश में इसको लेकर समिति बनाई थी, जिसका मैं अध्यक्ष था। हमने एक साथ चुनाव कराने का खाका खींचा हुआ है।

कांग्रेस प्रायोजित है किसान आंदोलन

डॉ. मिश्रा ने कहा कि यह किसान आंदोलन नहीं बल्कि कांग्रेस का आंदोलन है। इसे कांग्रेस ही प्रायोजित है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि पंजाब में यह आंदोलन शांतिपूर्ण होता और हरियाणा में उग्र क्यों हो जाता है। क्या देश में अकेले पंजाब में किसान रहते हैं।वहां उनकी (कांग्रेस) सरकार है जो पीछे से किसानों को उकसा रही है। कांग्रेस को यह बताना चाहिए कि आजादी के बाद अधिकांश समय वह शासन में रही पर किसान कर्ज में पैदा होता था, जीता था और मर जाता था। उन्होंने किसानों की आर्थिक उन्न्ति के लिए क्या किया।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here