Home राजधानी न्यूज़ Railway Sought report for reduce train stoppage officer said it is necessary

Railway Sought report for reduce train stoppage officer said it is necessary

76
0

Updated: | Tue, 29 Sep 2020 10:31 AM (IST)

जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Train Stoppage: अभी तक रेलवे, यात्रियों की संख्या और आय को लेकर ट्रेनों की समीक्षा करता रहा था, लेकिन अब वह ट्रेनों के स्टॉपेज (ठहराव) की समीक्षा करने में भी जुट गया है। रेलवे बोर्ड ने जबलपुर मंडल समेत देशभर के 63 रेल मंडल की सीमा में आने वाले रेलवे स्टेशनों पर ट्रेनों के स्टॉपेज की समीक्षा करने के निर्देश दिए।

मुख्य तौर पर रात 12 से सुबह 4 बजे के बीच रेलवे स्टेशनों पर रुकने वाली ट्रेनों की समीक्षा करने कहा गया। जबलपुर रेल मंडल के कमर्शियल विभाग ने जब इसकी समीक्षा की तो पता चला कि ज्यादातर स्टॉपेज जनप्रतिनिधि और सामाजिक-धार्मिक संगठन की मांग पर दिए गए हैं। वहीं कुछ ऐसे स्टेशन हैं, जहां रात में लंबी दूरी की ट्रेनें रुकती हैं।

रात की ट्रेनों में बैठते हैं ज्यादा यात्री

जबलपुर रेल मंडल की सीमा में तकरीबन 105 स्टेशन आते हैं, जिसमें मुख्य तौर पर 25 से ज्यादा स्टेशनों पर मेल से लेकर सुपरफास्ट और एक्सप्रेस ट्रेनें रुकती हैं। इनमें से 8 से 10 ऐसे स्टेशन हैं, जहां रात के वक्त ही लंबी और महत्वपूर्ण ट्रेनें रुकती हैं। इन स्टेशनों पर यदि ट्रेनों का स्टॉपेज खत्म कर दिया जाए तो उन्हें ट्रेन पकड़ने के लिए 5 से 6 घंटे का सफर कर महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशनों तक आना होगा। कमर्शियल विभाग ने जब यहां से बैठने वाली यात्रियों की संख्या और आय का आंकड़ा एकत्रित किया तो उम्मीद से बेहतर निकला।

जनप्रतिनिधि-संगठन की मांग पर स्टापेज

ट्रेनों को मुख्य स्टेशनों पर तो रोका जाता है, लेकिन हॉल्ट स्टेशनों पर ट्रेनों को रोकने की मुख्य वजह जनप्रतिनिधि और सामाजिक-धार्मिक संगठन की मांग है। ट्रेनों के स्टॉपेज को लेकर कई बार संगठन ट्रेनों को रोककर आंदोलन कर चुके हैं। वहीं अधिकांश स्टेशनों के स्टॉपेज वहां की जरूरत को देखते हुए दिया गया है। कमर्शियल विभाग की ओर से रेलवे बोर्ड को भेजी गई रिपोर्ट में यह स्पष्ट कहा गया है कि रात के वक्त ट्रेनों का स्टॉपेज हटाना मुश्किल है। सभी स्टॉपेज जरूरत और मांग को देखते हुए दिए गए हैं।

इसलिए स्टॉपेज कम कर रहा रेलवे

रेलवे इस समय प्राइवेट ट्रेनों को चलाने जा रहा है, जिसके लिए उसे ट्रैक खाली चाहिए। खास तौर पर रात के वक्त। वहीं नियमित ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने पर जोर दिया रहा है, ताकि और अधिक ट्रेनें चलाई जा सकें। इसे देखते हुए वह रात को आने वाले स्टॉपेज खत्म करने पर मंथन कर रहा है। इसलिए वह सभी मंडल से इसकी समीक्षा करवा रहा है।

रात 12 से सुबह 4 बजे के बीच ट्रेन और स्टेशन

1. जबलपुर-इंदौर ओवरनाइट एक्सप्रेस- मदनमहल से लेकर पिपरिया के बीच रुकती हैं

2. जबलपुर-हावड़ा शक्तिपुंज एक्सप्रेस- सिहोरा से ब्योहारी तक रुकती है

3. अमरकंटक एक्सप्रेस- बिरसिंहपुर से पेंड्रा तक रुकती है

4. इंदौर-बिलासपुर नर्मदा एक्सप्रेस- होशंगाबाद से सालीचौका तक

5. जबलपुर-मुंबई गरीब रथ- हरदा से खंडवा तक

6. जबलपुर-लखनऊ चित्रकूट एक्सप्रेस- जैतवारा से बांदा तक

रेलवे ने रात के वक्त रेलवे स्टेशनों पर रुकने वाली ट्रेनों की समीक्षा करने कहा था। मंडल में जितने भी स्टॉपेज दिए गए हैं, सभी महत्वपूर्ण हैं। इसकी जानकारी रेलवे बोर्ड को भेज दी गई है। मनोज गुप्ता, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here